Thursday, 22 June 2017

यूँ अचानक आज इक मिसरा हुआ|

इश्क पर ज्यों ज्यों कड़ा पहरा हुआ|
रंग इसका और भी गहरा हुआ|

कह रहे थे तुम कि गुनती जाती मैं|
यूँ अचानक आज इक मिसरा हुआ|

मुस्कुराते तुम कि झड़ते जाते गुल|
चुन रही थी मैं अजी गजरा हुआ|

यूँ  रुका आँसू पलक की कोर पर ,
फूल पर शबनम का कण ठहरा हुआ|

चाह कर भी कह न पाए राज़े-दिल,
इस जुबां पर लाज का पहरा हुआ|

ज़िन्दगी को रू-ब-रू पाया कभी,
यूँ लगा कि मीत हो बिसरा हुआ|

नदिया के जैसी रवानी चाहिए,
सड़ने लगता आब है ठहरा हुआ|

कौन समझाए किसे, फुरसत कहाँ,
घर बुजुर्गों के बिना बिखरा हुआ|

पीछे कमरे में पड़े माँ-बाप हैं,
ज्यों कबाड़ या कि फिर कचरा हुआ|

सुनते थे इन्साफ है अंधा मगर,
साथ में शायद है अब बहरा हुआ|

था विवश कर्जे से पहले ही कृषक

मार से मौसम की अब दुहरा हुआ|

17 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 25 जून 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार यशोदा जी

      Delete
    2. इश्क पर ज्यों ज्यों कड़ा पहरा हुआ|
      रंग इसका और भी गहरा हुआ|
      बहुत ही सुंदर प्रस्तुति है आपकी शालिनी जी। बधाई।

      Delete
    3. आपकी इस उत्साहवर्द्धक प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार पुरुषोत्तम जी .... बहुत बहुत धन्यवाद

      Delete
  2. वाह्ह..लाज़वाब गज़ल शालिनी जी बहुत सुंदर👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद श्वेता जी

      Delete
  3. जीवन के विविध रंग प्रस्तुत करती ,हमारे एहसासों से गुज़रती ख़ूबसूरत ग़ज़ल। बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार रविन्द्र जी

      Delete
  4. Replies
    1. शुक्रिया मीना ji

      Delete
  5. Replies
    1. शुक्रिया सुशील जी

      Delete
  6. सुनते थे इन्साफ है अंधा मगर,
    साथ में शायद है अब बहरा हुआ|
    बहुत ही सुन्दर.....
    लाजवाब...

    ReplyDelete
  7. मर्मस्पर्शी पंक्तियाँ बहुत दिनो के बाद आपको लिखते देखकर खुशी हुई।

    ReplyDelete
  8. सुधा जी एवं संजय जी आप दोनों का बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. सुधा जी एवं संजय जी आप दोनों का बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है.अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई ,तो अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger Tips And Tricks|Latest Tips For Bloggers Free Backlinks